सोते समय डर जाते हैं या आते हैं डरावने सपने, अपनाएं ये रामबाण उपाय

नींद न आना या फिर डर के कारण नींद उचट जाना या फिर कभी सोते समय लगता है कि जैसे कोई छाती के ऊपर चढ़ कर बैठा है, ऐसी ढेरों समस्याएं इन दिन आम हो चुकी हैं. बच्चे क्या बुजुर्ग क्या, रात में बुरे सपने आना या रात को सोने के बाद जी घबराना या नींद ना आना हर उम्र की समस्या बन चुकी हैं. सबसे पहले तो जान लें कि ये कोई रोग नहीं है, हाँ इससे मानसिक तनाव जरुर उत्पन्न होता है और जो आगे बिमारियों का कारण बनता है.

नींद की इन समस्याओं के ढेरों मुख्य कारण हैं जिनका एक आम आदमी को कभी पता भी नहीं चलता, जैसे-हृदय के ऊपर हाथ आ जाना, उलटी दिशा में सोना, दिशा का चुम्बकीय प्रभाव, नींद पूरी न करना या फिर अधिक सोना आदि आदि. आओ जानें इन समस्याओं और इनके निवारण को —

सबसे पहले बदलें सोने की दिशा
हमेशा ध्यान रखें कि रात को सोते समय सिर की दिशा पूर्व या दक्षिण ही हो. दिशा पता करने के लिए सूर्य उदय की दिशा में मुंह कर के खड़े हो जाएँ, अब आपके सामने पूर्व, बाएं हाथ में उत्तर, दायें हाथ में दक्षिण और पीछे पश्चिम दिशा है. ऐसा करने के पीछे कारण है कि धरती के दो ध्रुव है उत्तरी और दक्षिणी ध्रुव.जब रात को हम सोते है तो इन ध्रुवों से चुम्बकीय तरंगे निकलती हैं जो हमारे शरीर से भी गुज़रती हैं. यदि सिर उत्तर की दिशा में होगा तो ये विपरीत प्रभाव देगा और वहीं सिर अगर दक्षिण में होगा तो ये एनर्जी और शक्ति देगा. ऐसा करने से बुरे सपनों से भी आज़ादी मिलेगी क्यूंकि विपरीत दिशा (पश्चिम या उत्तर) में सोने से शरीर की जकडन या विपरीत खिंचाव हमको बुरे स्वपनों में ले जाता है.

Loading...

तकिये के नीचे रखें लोहे की चीज और पानी
अगर किसी का बचपन गाँव में दादा-दादी के साथ बीता है तो उन्हें याद होगा कि पुराने ज़माने में बुज़ुर्ग लोग बुरे स्वपनों के कारण बच्चों के सर के नीचे चाक़ू और एक तांबे लौटे में सिरहाने पर पानी रखते थे. ऐसा करने के पीछे धरती के चुम्बकीय बल को सिर की तरफ करने के लिए किया जाता है.

चैन की नींद नहीं है तो जीवन के बाकि सब सुख बेकार हैं.. और चैन की नींद बस रात्रि की नींद होती है.. दिन में तो मुर्दे सोते हैं ..

सोने से पहले करें ॐ का जाप
हमेशा रात को सोते समय थोडा सा ध्यान सकारत्मक विचारों की ओर लगाने की कोशिश करें. फिर भी अगर ध्यान लगाना मुश्किल हो या इस बारे में अनुभव न हो तो आँखें बंद कर के 10 मिनट तक ॐ का जाप करें. इसके लिए एक तो लम्बे लम्बे श्वांस लीजिये, और अपना ध्यान अपने श्वांसों पर केन्द्रित कर ॐ कहें. इसी दौरान मन से ये देखें के आपके श्वांस नाक के द्वारा आपके शरीर में कहाँ कहाँ जा रहें हैं और फिर वापिस बाहर आ रहें हैं. मात्र ऐसा 5-10 मिनट करने से ही अपने आप नींद आ जाएगी.

सोने से पहले करें देशी घी की मालिश
पुराने जमाने में माँ-दादी रात को सोने से पहले सिर में और पैरों के तलवे में देसी घी की मालिश करती थी. मात्र 10 मिनट तक की इस मालिश के बाद आनंद की नींद का अनुभव हो जाता है. याद रखें कि घी 25 से 50 ग्राम की मात्रा में लेना है.

सुबह सुबह व्यायाम अवश्य करें 
इन दिनों भाग दौड़ के युग में लोग शरीरिक श्रम नहीं करते और प्रकृति के पास नहीं रहते , इस कारण उनके साथ ये समस्याएं होती हैं. इसलिए दिन में एक या आधे घंटे तो कम से कम पार्क में या जहाँ पर हरियाली हो वहां पर सैर, योगा, वगरह ज़रूर करना चाहिए तांकि शरीर को थोड़ी सी तो थकान हो और अधिक ऑक्सीजन प्राप्त होने के कारण से शरीर बिना दवा के अपने आप ही अच्छी नींद में सोयेगा.

loading...

बता दें कि ये उपरोक्त छ: उपाय आपके लिए बेहद रामबाण उपाय हैं. किसी तरह का भी मानसिक रोगी हो, उसको भी अगर आप ये करवा देंगे तो उसकी भी अवस्था बहुत जल्दी सही होगी.

अन्य पढें – 

भारतीय इतिहास के ये 5 गद्दार कभी भुलाए नहीं जा सकते

कमजोर दिल वाले हैं तो कृपया इन तस्वीरों को न देखें

इस युवती से शादी कर दहेज में मिलेंगे 1200 करोड, फिर भी क्यों नहीं मिल रहा दूल्हा!

ये है दुनिया की 10 सबसे बड़ी आर्मी , जानिए इसमें भारत का स्थान कौन सा है

जब आपत्तिजनक हालत में पकड़ी गई थी पाकिस्तान की ये खूबसूरत विदेश मंत्री…

loading...