अगर सास-बहू के रिश्ते में रहती है खटास, तो जरुर अपनाएं इन उपायों को …

सास बहु का एक पवित्र रिश्ता होता है. वेदों में भी लिखा गया है कि एक सास अपनी बहु की सबसे बड़ी मित्र होनी चाहिये, उसे उसकी भावनाए समझनी चहिये. जब एक लड़की शादी करके किसी और के घर में प्रवेश करती है तो वह उस घर के कायदे कानून नही जानती होती है. इस दौरान यह हर सास का फ़र्ज़ बनता है कि वह उसे सभी चीज़े प्रेम से समझाए और वह अपनी बहु को अपनी बेटी की तरह उसका खयाल रखे.

लेकिन ऐसा अक्सर होता है की कुछ गलत फेहमियो की वजह से उन दोनों में तकरार हो जाती है. वैसे आज के समय में इन दोनों के बीच प्रेम का रिश्ता ना होकर. दुश्मनी का रिश्ता स्थापित हो गया है. आज ज्यादातर हर घर में कलेश की वजह चाहे तो सास होगी या बहु होगी. लेकिन आज हम आपको कुछ बाते बतायेंगे जिसको अपना कर आप इस पवित्र रिश्ते को दुबारा स्थापित कर पाएंगे.

Loading...

1. अपनी सास की हर बाते माने
यह हर बहु का कर्तव्य है की उसकी सास द्वारा कही हुई सारी बातो का वह पालन करे. हर सास चाहती है की उसकी बहु उसके वश में रहे. अगर एक बहु अपनी सास की सारी बाते मानेगी तो धीरे-धीरे दोनों का रिश्ता भी सुधारने लगेगा.

2. एक दुसरे को सम्मान दे
अगर घर में सास का बेटा उसकी बहु पर ज्यादती या मनमानी करता है तो यह हर सास का परम कर्तव्य है की वह अपने बेटे को समझाये. उसकी गलत हरकतों पर उसे डाटे. इससे क्या होगा की बहु और सास के बीच एक सम्मान का रिश्ता कायम होगा.

loading...

3. एक दुसरो की जरुरतो का ख्याल रखे
अगर किसी बहु को कुछ चाहिए, तो हर सास को उसे वह देना आवश्यक है और ऐसी ही स्थिति अगर सास के सामने है तो हर बहु को अपनी सास की मदद करना भी उसका फ़र्ज़ है.

loading...