लंदन में मौजूद है सरकारी हिन्दू स्कूल, हिन्दुओं जितने ही अंग्रेजों के बच्चे रहते हैं संस्कृत पढने को इच्छुक

डॉलफिन पोस्ट, लंदन। आपको जानकर हैरानी होगी कि भारत से मीलों दूर यूरोपीयन महाद्वीप स्थित ब्रिटेन यानि इंग्लैंड में भी हिंदुओं के लिए सरकारी स्कूल मौजूद है। सरकार की तरफ से खोले गये इस स्कूल में अंग्रेजों ने बच्चे भी हिन्दुओं जितने ही संस्कृत प्रेमी हैं।

हालाँकि कुछ समय पहले तक ये स्कूल अस्थायी भवन में चल रहा था, मगर इस समय सरकार की अनुमति से यह अपनी बिल्डिंग में चल रहा है। मुख्य बात तो है कि यहां सनातन धर्म की पढ़ाई के साथ अंग्रेजी की जगह संस्कृत भाषा पर जोर है और जिसे पढ़ने के लिए अंग्रेजों के बच्चे उत्साह में रहते हैं।

Loading...

बता दें कि इस स्कूल का नाम अवंती हाउस स्कूल है, जो लगभग 4 सालों तक अस्थाई जगहों पर चलता रहा था, जिसके बाद हिन्दुओं की मांग पर फ़िलहाल इसका पता स्थिर हो चला है। आपको ये भी बता दें कि ये हिंदू स्कूल एक नहीं, बल्कि 7 जगहों पर खोले गए हैं।

हालाँकि इस स्कूल के प्रधानाध्यापक के तौर पर एक अंग्रेज मार्क बेन्नीसन कार्यभार संभाल रहे हैं। मगर वो एक हिन्दू स्कूल के माध्यम से हिन्दू संस्कृति को जान रहे हैं और उन्होंने स्कूल को स्थाई ठिकाना मिलने पर खुशी जाहिर की। मार्क के प्रयासों के चलते ही लंदन के इस हिस्से में हिंदू मान्यता वाले स्कूल की मांग बहुत ज़्यादा है।

हाल ही में एक सरकारी फैसले अनुसार स्थायी रूप से स्कूल बनाने को हरी झंडी मिलने के पहले ही आने वाले 7 जगहों पर स्कूल के लिए भी तय संख्या से अधिक आवेदन आ गये थे। एक मात्र संस्कृत ऐसी भाषा है, जो अवंति हाउस की सभी कक्षाओं में पढ़ाई जाती है। इसलिए संस्कृत की पढ़ाई सरकारी हिंदू माध्यमिक विद्यालयों की खास पहचान है।

क्या कहते हैं अंग्रेज 

वहीं स्कूल के हिन्दू प्रशासन का कहना है कि हमारे अपने बच्चे ही अपनी महान विरासत के बारे में नहीं जानते। हिन्दू संस्कृति उन्हें उनके महान इतिहास से रूबरू कराएगी। इस स्कूल का कहना है कि हम अपने बच्चों को ये बताना चाहते हैं कि वो कहां से आए हैं, और महान देश का इतिहास क्या है।

loading...

एक अंग्रेज का सनातन हिन्दू स्कूल के बारे में कहना है कि “हमारे बच्चे को यहां क्या सिखाया जाता है, वह केवल पढ़ाई का मामला नहीं है, ये जीवन कैसे जिएं, बड़ों और दोस्तों के साथ कैसा व्यवहार करें, उसका भी मामला है. मुझे सनातन स्कूल बहुत पसंद है।”

loading...