आपकी ये 3 आदतें कर देंगी आपकी किडनी फेल.. जरुर जानें इनके बारे में..

पिछले कुछ समय से भारत में बीमारिया बहुत तेज़ी से बढती जा रही है. इनमे से सबसे प्रमुख है किडनी रोग. दरअसल किडनी रोग में इन्सान के गुर्दे खराब होने लगते है. बता दें कि शरीर में किडनी एक छलनी का कार्य करती है और अगर ये कम करना बंद कर दे तो शरीर के अन्दर तेज़ी से गंदगी जमने लगती है.

किडनी की बीमारिया हमारे खानपान के वजह से ही होती है. जब हमारा खानपान अच्छा नहीं रहता हम एक्सरसाइज नहीं करते है, प्रदुषण भरी जगह में कम करते है, इन सब चीजो का सीधा प्रभाव हमारी किडनी ख़राब करने में रहता है।

Loading...

चलिए आपको बताते है की आखिर किडनी ख़राब होने के कारण कौन कौन से है

एक ताज़ा अध्यन में ये पाया गया है की अगर हम पुरे दिन का मिलाकर 4 लिटर से कम पानी पीते है तो हमारी किडनी ख़राब होने के संभावना बढ़ जाती है. दअरसल पानी हमारे एसिड के साथ मिल जाता है जिसके फलस्वरूप वो हमारे शरीर से बहार निकल जाता है. इसलिए हमे प्रतिदिन कम से कम 4 लीटर पानी तो अवश्य ही पीना चाहिए.

अपने घर के बुजुर्गो को ये तो कहते सुना ही होगा की हमे किसी भी प्रकार के वेग को रोकना नहीं चाहिए और उसमे सबसे ज्यादा पेशाब को न रोकने की सलाह दी जाती है. दरअसल कुछ काम आदि की वजह से हम अपने पेशाब को रोके रखते है, जिसकी वजह से किडनियों के ख़राब होने के चांस बढ़ जाते है. इसलिए यूरिन को कभी भी ज्यादा देर तक नहीं रोके रखना चाहिए.

हमारा खानपान भी किडनियां ख़राब करने में कारगर बन जाता है जो लोग मीठा ज्यादा खाते है, उन्हें सुगर की प्रॉब्लम तो होती ही है. इसके साथ साथ किडनियों पर भी इसका गलत प्रभाव पड़ता है तो अगर आप हद से जयादा मीठा खाते हो तो संभल जाए, ये आपके लिए कतई अच्छा नहीं है पेशाब करने की मात्रा और समय में परिवर्तन।

अगर आपको नीचे दी गयी समस्याओ का सामना करना पड़ रहा है तो जरुर अपनी जांच कराये….

पेशाब का मात्रा में अचानक बहुत बदलाव आ जाना

यूरिन के रंग में परिवर्तन आना

यूरिन का बार बार आना

यूरिन का सही से नहीं निकलना और जलन महसूस करना

पेशाब करते समय खून का आना

loading...

जल्दी थकान होना एवम ज्यादा ठण्ड महसूस करना!!

loading...