चुपचाप करें ये लाल धागे का उपाय, खोल देगा आपकी किस्मत के द्वार

भारत में ज्योतिषशास्त्र का अपना अलग ही महत्व है. गृह दोष बुरी दशा आदि के निवारण के लिए लोग अक्सर ज्योतिष की तरफ जाते है. इससे उन्हें वास्तव में भी फर्क महसूस होता है. ज्योतिष्शास्त्र के अनुसार सभी व्यक्ति की कुंडली में 9 ग्रह होते है, जो समय समय पर अपना प्रभाव दिखाते है। मनुष्य के अच्छे और बुरे वक़्त के बारे में ग्रहों की दशा से ही मालूम पड़ता है।

वैसे तो सभी गृह का ही अपना खास महत्व होता है पर इनमे से शनिदेव ही है जो मनुष्य के कर्मो का हिसाब से उन्हें फल प्रदान करते है इसलिए शनिदेव ही है जो कि जिनके प्रभाव से मनुष्य घबरा जाता है सही सोचने समझने ही शक्ति भूल जाता है।

Loading...

शनिदेव को हिन्दू धरम में महत अधिक महत्व दिया गया है शनिदेव को भगवान सूर्य का पुत्र कहा गया है, जो कर्म और सत्य को जीवन में अपनाने की ही प्रेरणा देते है। हिन्दू धर्म के अनुयायी ये बात भालीभाती जानते है, इसलिए शनिदेव को प्रसन्न करने के उपाय ढूंडते रहते है. अगर आप भी शनिदेव को प्रसन्न करना चाहते हैं तो शास्‍त्रों में बहुत सारे उपाय बताए गए हैं जिसके करने से शनिदेव प्रसन्‍न हो जाएंगे।

बात यह भी ध्यान में रखनी है की शनिदेव की पूजा बड़े ही मन से करनी चाहिए. इसके अलावा हमे गलत कम गलत आचरण को भी छोड़ देना चाहिए. शनिदेव के प्रसन्‍न होने से आपका जीवन सफल हो जाएगा। चलिए जानते के शास्त्रों में लिखे कुछ ऐसे उपाय जिससे शनिदेव की पूजा अर्चना करनी चाहिए-

शास्त्रों के अनुसार अगर आप शनिवार के दिन पीपल के वृक्ष के नीचे दीपक जलाएं और दोनों हाथों से पीपल के पेड़ को स्‍पर्श करें तो शनिदेव प्रसन्न होते है। दीपक जलाने के बाद पीपल के पेड़ की परिक्रमा करें इसके साथ साथ कुछ मंत्र भी बताए गए है, जिनका हम उच्चारण कर सकते है सबसे शक्तिशाली मंत्र इस प्रकार है-

ऊं शं शनैश्‍चराय नम:’ इस मंत्र को पूजा करते समय जपने से हमारे ऊपर लगी साढ़ेसाती व् उन सभी परेशानियों से मुक्ति मिलती है जो हमारे जीवन जीने में दुःख देती है ।

दूसरा उपाय यह है की साढ़ेसाती के प्रकोप से बचने के लिए हम शनिवार वाले दिन उपवास रख सकते है इस उपवास में व्यक्ति को दिन में एक बार नमक विहीन भोजन करना चाहिए।

तीसरा उपाय यह है की अगर कोई विशेष मनोकामना जल्दी पूरी करनी है तो शनिवार के दिन आप अपने लंबाई जितना एक का लाल रंग का धागा ले फिर इसे आम के पत्‍ते पर पूरी तरह से लपेट दे।

ध्यान रहे की पत्ता ज्यादा फटा हुआ न हो, इसके बाद लाल रंग से लिपटे हुए इस पत्ते को अपने दोनों हाथो से पकडे और अपने मन में ओमी मनोकामना मांगे इसके बाद इस पत्‍ते और धागे को बहते हुए जल में प्रवाहित कर दें। इससे आपकी मनोकामना जल्दी ही पूरी होगी.

loading...

ऊपर दीये सारे उपाय शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए बताए गए है. शास्त्रों में शनिदेव को कर्मो का फल देने वाला बताया गया है. इसलिए हमे हर कार्य बड़े ही सोच समझकर करना चाहिए. हमेशा ये ध्यान में रखना चाहिए की हमारे किए गए कार्यो का प्रभाव किसी पर गलत तरीके से न पड़े।

loading...